demo
Times24.net
कवि आधा पागल
Friday, 10 May 2019 16:59 pm
Times24.net

Times24.net


हिलेरी हिटलर ए.वी.
कवि आधे-अधूरे दीवाने हैं
और दूसरा आधा? जीवन पागल है!
लेकिन कवियों को ज्वालामुखी बनने की जरूरत है!
ठीक वैसे ही जैसे कवि सुकरात के आधे हैं
और दूसरा आधा? शराब और शराब के नशे में!
लेकिन कवियों को अमृत-शाकाहारी होने की जरूरत है!

आधे स्वतंत्रता सेनानियों, देशभक्तों जैसे कवि
और दूसरा आधा? रजाकारों की तरह हताश!
लेकिन कवियों को एकरस होने की जरूरत है!

आज, आखिरी त्रासदी में ----
51% कवियों को होना चाहिए!
अन्यथा समाज-राष्ट्र-देश-दुनिया को कवियों से कुछ नहीं मिलेगा!

चूंकि ---- - लोकतंत्र का मुख्य उद्देश्य केवल 51% है
और अगर कवि 51% नहीं हैं?
समाज-राष्ट्र-देश-दुनिया के कवियों को मिलेगा घोरादिम! घोराडिम मिलेगा!

इसलिए ----
यदि आप कवि का दावा करते हैं?
लेकिन तुम 51% हो!
        तुम 51% हो!
क्या आपको याद है --- लोकतंत्र का मुख्य आधार केवल 51% है
और दुनिया का अधिकांश हिस्सा लोकतांत्रिक है!

हे कवियों ----
यदि आप दुनिया में योगदान करना चाहते हैं?
लेकिन आपको 51% होना चाहिए!
आज आपको आठवां दिन याद है ----
          "लोकतंत्र केवल 51% का मुख्य आधार है!"