বুধবার, ১৯ জুন ২০১৯
Saturday, 27 Apr, 2019 10:02:59 am
No icon No icon No icon

मेरा देश

//

मेरा देश


लेखक: जहाँगीर हुसैन (पूर्व सेना अधिकारी)
सफेद स्विमिंग सूट
गलियारे ने घाटी को कवर किया है
शेरोन का कहना है कि एक दाने में
दिल भर गया।
बरसात के निमंत्रण पर मौसमी भँवर
 बारिश हो रही है
मैं दु: ख के साथ घर में रहूंगा
 उसे इतना याद नहीं है।
जहां कीचड़ में पतंगा रास्ता खो गया है
नाला खल नदी में पानी भर गया है
फसल के खेत में हवा चलती है
धीरे-धीरे चावल की तस्वीर खराब हो गई।
अरे कितना सुख है
अरे कितना सुख है
तालाब, नदी
मछली में बत्तख नहीं है
कुलु कुलु धारा
नदियाँ समुद्र में चली जाती हैं
हिल्सा मछली
नदी को मत छुओ।
नाम पता नहीं, कितने सूज गए
ओस बिंदु बाद में
Kirane सूरज
मोती को फूल श्रृंखला में गिरा दें
आधा भूखा मुर्गा
चट्टानों में
प्रकृति के कितने खेल खेलते हैं,
आह मोहन
सर्दी निकल जाती है
पेड़ के पत्ते हार जाते हैं
वसंत की हवा
फुलेरा की बात
अमरो कानन
मंजुरी की पूजा के रूप में
कथल मैट
बड़े होने की खोज
लोहार, शाखा, शाखा
कच्ची पत्तियों का नया आगमन
कंटेनर के पत्तों को कवर करें
 मैडी मैडी के आगमन की तिथि।
स्प्रिंग कोकून मटवारा
बुलाहु कुहु कुहू
लिचुर ट्वेंटी वे
दहल फक फक
यह मेरा स्वर्णिम देश है
 सोनफला कोर्ट
हम जहां भी जाते हैं, बहुत दूर निकल जाते हैं
 इस जगह के दिल में बंगाल का स्थान है।

এই রকম আরও খবর




Editor: Habibur Rahman
Dhaka Office : 149/A Dit Extension Road, Dhaka-1000
Email: [email protected], Cell : 01733135505
[email protected] by BDTASK